QaUp ko paMva

 

AmalatasaI QaUp

Da^ sarsvatI maaqaur

 

Amalatasa ko rMgaaoM sao
iptlaa[- QaUp
gamaI- ko maaOsama maoM
pIlao rMga kI sauriBa nao
mahka[- QaUp
poD,aoM ko iJalaimala krto
saayaaoM ko baIca
prCa[-M QaUp
saca AmalatasaI
duphr kao camakatI bahut
ktra[- QaUp.


24 Ap`Ola 2005

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter