QaUp ko paMva

 

AMQakar ko iKlaaf 

EaIkRYNa itvaarI  

 

 

@yaa hue vao rot pr
]Baro nadI ko paŠvaĘ
lahr laokr ijanhoM Aa[- qaI hmaaro gaaŠva.


Aa[nao vao khaŠ ijanamaoM hma saŠvaaroM $pø
raooSanaI ko ilae JaolaoM hma khaŠ tk QaUpø
@yaa hu[- vah maaorpMKI
baadlaaoM kI CaŠvaĘ
ijasao laokr hvaa Aa[- qaI hmaaro gaaŠva.

fUla pr naaKUna ko @yaaoM ]Bar Aae dagaĘ
ek jaMgala baao gayaa @yaaoM baistyaaoM maoM AagaĘ
@yaa hue AiBamanyau ko vao 
vyaUh BaodI daŠMvaĘ
samaya laokr ijanhoM Aayaa qaa hmaaro gaaŠva.

 ³saaih%ya AmaRt sao“

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter