अंजुमनउपहार काव्य संगम  गीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहेसंकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर

चली स्वच्छंद भगीरथी





 

उच्च हिमालय पार कर मैदानों की ओर।
चली स्वच्छंद भगीरथी, होकर भाव विभोर

गो मुख से निकली,किया, धरती को प्रस्थान
हरिद्वार में पहुँचकर, मिला उसे विश्राम

गंगा से है विश्व में, भारत की पहचान
लाखों जन जुटते यहाँ, करते पावन स्नान

सलिला पाप विनाशिनी, करती रोग निदान
दुख हरणी,सुख दायिनी, देती जीवन दान

आए जो इस बार हम, गंगा माँ के द्वार
कहीं नहीं हमको दिखी, इसकी निर्मल धार

रोग मुक्त सबको किया, रोगी हो गई आप
दूषित खुद होने लगी, धोते धोते पाप

गंगा मैली हो चली, कहिए दोषी कौन
चुप चुप है सरकार ये, जनता भी है मौन

जज़्बा है कुछ शेष गर, माँ से है अनुराग
वैतरणी को तार दें, जाग मनुष अब जाग

क्या समझाए लेखनी, बाँट रही जज़्बात
कहे आपसे कल्पना, छोटी सी यह बात

कल्पना रामानी
४ जून २०१२

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter