अंजुमनउपहार काव्य संगम  गीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहेसंकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर

माँ कहती थी





 

माँ कहती थी -
गंगा नदी नहीं
वह तो है सबकी मइया

'वही पालती-वही तारती
सुख-दुख की भी वह है साखी
वह अक्षय है -
उसने सूरज-चंदा की पत राखी'

माँ कहती थी-
'बबुआ मानो
देस हमारा सोनचिरइया'

'हिमगिरि पर जो देवा रहता
उसके जटा-मुकुट से निकसी
वही सींचती हमें नेह से
जब तपती है देह अगिन-सी’

माँ कहती थी-
‘कामधेनु वह
जो है देवताओं की गइया’

गंगाजल से माँ करती थी
शुद्ध-पवित्र रोज़ आँगन को
कहती थी - 'यह जल है पावन
इससे सींचो अपने मन को'

माँ कहती थी -
‘गंगातट पर ही
रहता है सृष्टि-रचइया'

-कुमार रवीन्द्र
४ जून २०१२

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter