अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

 

 


 

पतंग

नभ में उड़ती इठलाती है
मुझको पतंग बहुत भाती है

रंग-बिरंगी चिड़िया जैसी
लहर-लहर लहराती है

कलाबाजियाँ करती है जब
मुझको बहुत लुभाती है

इसे देखकर मुन्नी-माला
फूली नहीं समाती है

पाकर कोई सहेली अपनी
दाँव-पेंच दिखलाती है

मुझको बहुत कष्ट होता है
जब पतंग कट जाती है
 

डॉ. रूपचंद्र शास्त्री मयंक

उड़ी हवा के साथ

उड़ी हवा के साथ पतंग
लेकर अपनी डोरी संग

आसमान में चक्कर खाती
उसकी डोरी उसे नचाती

ढील बढाओ ऊपर जाती
डोरी खींचो नीचे आती

कुछ होती दुमदार पतंग
कुछ के नीले पीले रंग

डोरी टूटी गई पतंग
हवा ले गई अपने संग

सजीवन मयंक

 



मैं हूँ कौन

मैं हूँ कौन मैं हूँ कौन
बूझो बूझो मैं हूँ कौन

ऊपर नीचे आगे पीछे
धागे को हाथों में भींचे

खेल बनाते रहते हो
मुझे नचाते रहते हो

कुछ न कहती तुमसे
करते जब भी तंग

बूझो बूझो मैं हूँ कौन
मैं हूँ वही पतंग

मंजु महिमा भटनागर
 

 

 

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter