अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

संस्कृति देती गर्व
 
पोंगल, खिचड़ी, बिहू सब, मिलकर करते क्रांति।
भिन्न-भिन्न हैं रूप पर, एक मकर संक्रांति।।

चेतनता में वृद्धि हो, दिव्य-दृष्टि दे खोल।
माघी की महिमा कहें, ज्योतिष और खगोल।।

स्नान, ध्यान औ' दान की, संस्कृति देती गर्व।
शुचिता, सौम्य, मिठास का, खिचड़ी अद्भुत पर्व।।

महाकाश को चूमती, भावों भरी पतंग।
तिल-गुड़ के लड्डू मिले, जब खिचड़ी के संग।।

गंगा के तट यूँ लगे, जैसे माँ की गोद।
जप-तप, तर्पण, दान कर, मिले अलौकिक मोद।।

देव दिवाकर दे रहे, जन-जन को यह आस।
पल-पल जीवन में बसे, मंगल, मोद, मिठास।।

सरिता तट के रंग से, रोमांचित आकाश।
दूर वहाँ से सोचता, मैं भी होता काश।।

दिन प्रतिदिन होंगे बड़े, छोटी होंगी रात।
खिचड़ी तम को चीरती, बतलाती यह बात।।

मेले-सा आनंद हो, दु:ख न करे प्रवेश।
जीवन-शुभ की कामना, माघी का संदेश।।

ढोल-नगाड़े बाजते, प्रमुदित दिखे किसान।
मकर राशि में आ गये, अब दिनकर भगवान।।

- डॉ. शैलेष गुप्त 'वीर' 
१५ जनवरी २०१७

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter