अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 


तुम्हें नमन
राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी को समर्पित कविताओं का संकलन

 

बापू! क्यों बंदूक तनी है?

सत्य अहिंसा के अनुगामी, हे मानवता के पथगामी।
द्वेष, दंभ, कटुता का डेरा, हिंसा नित्य लगाती फेरा।
सहमा बैठा कहीं सबेरा, भय, चिंता का गहन अँधेरा।
होती जन, धन की बरबादी, रोके रुके न खून खराबी।
धरती मैया रक्त-सनी है,
बापू! क्यों बंदूक तनी है?

तुमने इस उजड़ी बगिया को, सत्कर्मों के जल से सींचा।
पौध-पौध को प्यार लुटाया, नवल गंध प्राणों में खींचा।
दया, प्रेम का पाठ पढ़ाया, हेल-मेल की राह दिखाई।
फिर भी भाई ही भाई में, भेद-भाव की गहरी खाई।
किसने कोमल फुलवारी में, बोया फिर से नागफनी है?
बापू! क्यों बंदूक तनी है?

हे बच्चों के प्यारे बापू! एक बार फिर से आ जाओ।
हम राहों में भटक गए हैं, अंधकार में ज्योति जगाओ।
लहराए जन-मन की गंगा, फहरे मानवता का परचम।
पंचशील के प्रखर ओज से, हो जाए यह देश चमाचम।
सत्य, अहिंसा, सदाचार का सदियों से यह देश धनी है
बापू क्यों बंदूक तनी है?

-शंकर सुलतानपुरी

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।