अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 

वर्षा महोत्सव

वर्षा मंगल
संकलन

सावन




उमड़ घुमड़ घनघोर घटा बन
जब घिर-घिर के आए बदरिया
गरज-गरज घन दिल दहलाए
सावन का संदेस सुनाए
कड़क-कड़क कर नाच गगन में
चमक दमक इठलाए बिजुरिया।

चारों ओर घिरे अँधियारा
जग से भाग छुपे उजियारा
सनन-सनन झकझोर पवन में
पाँवों में बल खाए घघरिया।

अंबर से अमृत जल बरसे
सूखी धरती का मन हरषे
सावन की रिमझिम बरखा में
तन से लिपटी जाए चुनरिया।

कण-कण में हरियाली लाए
तपते तन की प्यास बुझाए
बन-बन में नाचे मयूर
मधुबन में गाए रंगरसिया।

उमड़-घुमड़ घनघोर घटा बन
जब घिर-घिर के आए बदरिया।

- पुष्पा भार्गव
05 सितंबर 2005

  

बरखा

किसी देवांगना के
स्नात केशों से गिरे मोती
विदाई में
अषाढ़ी बदलियों ने
अश्रु छलकाए
किसी की पायलों के घुँघरुओं ने
राग है छेड़ा
किसी गंधर्व ने आकाश
में पग आज थिरकाए

उड़ी है मिटि्टयों से सौंध जो
इस प्यास को पीकर
किसी के नेह के उपहार का
उपहार है शायद
चली अमरावती से आई है
यह पालकी नभ में
किसी की आस का बनता
हुआ संसार है शायद

सुराही से गगन की एक
तृष्णा की पुकारों को
छलकता गिर रहा मधु आज
ज्यों वरदान इक होकर
ये फल है उस फसल का जो
कि आशा को सँवारे बिन
उगाई धूप ने है
सिंधु में नित बीज
बो बो कर

- राकेश खंडेलवाल
5 सितंबर 2005

               

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है