अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM hsanaOna rja,a kI rcanaaeMó

AMjaumana maoMó
ek kdma
ek K,amaaoSa saI
eosao vaOsao
ija,ndga,I Bar
baat idla sao
imalaogaa tumakao BaI maaOka
mauskuranaa caahta hUM
raojamara- kI ja$rt

 

  mauskuranaa caahta hUM

mauskuranaa caahta hMU
kuC ijasao maOM BaUla sakta hMU nahIM pr
BaUla jaanaa caahta hMU

mauskuranaa caahta hMU

CIna laayaa qaa iksaI kI AaMK ko AaMsaU kBaI
Aba ]nhIM kao maaoityaaoM maoM Zalakr
jaSna ko gahnao banaanaa caahta hMU

mauskuranaa caahta hMU

hao rhI hO KaoKlaI mauskana sao nafrt mauJao
idla kI KuiSayaaoM kao galao ifr sao
lagaanaa caahta hMU

mauskuranaa caahta hMU

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter