अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

प्रेमचंद सहजवाला

जन्म -
१८ दिसम्बर १९४५

शिक्षा -
एम. एस-सी (गणित)

संप्रति -
भारत मौसम विज्ञान विभाग से 'सहायक मौसम विज्ञानी' (I)' पद पर सेवानिवृत्त।

प्रकाशित कृतियाँ-
तीन कहानी संग्रह- सदमा, कैसे कैसे मंज़र (पुरस्कृत)
और टुकड़े टुकड़े आसमान।

इतिहास शोध कार्य -
'भगत सिंह - इतिहास के कुछ और पन्ने' (पिछले महीने डॉ. विभूति नारायण राय द्वारा लोकार्पित)।

साहित्य -
हिंदी के चर्चित कथाकार. हिंदी की सभी प्रमुख पत्रिकाओं 'धर्मयुग', 'साप्ताहिक हिंदुस्तान', 'सारिका', 'कहानी', 'रविवार' आदि में कहानियाँ व एक लघु उपन्यास प्रकाशित। तीन कहानी संग्रह, जिन में से एक 'कैसे कैसे मंज़र' पर 'केंद्रीय हिंदी निदेशालय' का पुरस्कार। पिछले कुछ वर्षों से ग़ज़ल लेखन में भी सक्रिय। अंग्रेज़ी प्रश्नोत्तर के रूप में एक विश्वकोश प्रकाशित जिसमें कई महत्वपूर्ण भाषण आदि संकलित। अंग्रेज़ी की अनेक वेब साइटों पर राजनीति व इतिहास सम्बन्धित कई लेख प्रकाशित। सिन्धी में भी छुटपुट लेखन।

ईमेल- premuncle@gmail.com

 

अनुभूति में प्रेमचंद सहजवाला की रचनाएँ

अंजुमन में—
ख्वाब मेरी आँखों को
तन्हाई के लम्हात
रिश्तों की राह
शहर में चलते हुए

सराबों में यकीं के

दोहों में-
जीवन रेगिस्तान सा


 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है