अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM saaihla laKnavaI kI rcanaaeMó

AMjaumana maoMó
A`”baar
]mmaIdoM
ek raoja,
pr eosaa haota tao nahIM
bacapna
masaIha

 

masaIha

gar krnaa hO
tuJao kuC ma”laUk, ko vaasto
Apnaa lao tU BaI sab`a≠AaO≠j,abt ko rasto
j,aro- sao bana jaa Aasmaa–
fOlaa lao Apnaa Aa–cala
[sa k,dr
ik samaoT sako 
j,amaanao Bar ko duK≠dd- Apnao Andr
AaOr vaapsa kr sako
j,ad- cahraMo po mauskrahToM
ik jaOsao saubahao kI phlaI ikrna
Sabao≠ihja`a– ko vaasto

dd-≠AaO≠g,ama ko satae
j,amaanao kao
Pyaasa hO, Pyaar≠AaO≠hmaddI- kI
barsa jaa
]na saUKo baIhD, [laak,aoM maoM
jaha– kBaI
Sabanamao≠saukUna≠AaO≠massar-t na igarI

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter