अंजुमनउपहार काव्य संगम  गीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहेसंकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर

अनुभूति में डॉ. सुश्री शरद सिंह की रचनाएँ-

गीतों में-
आखिर क्यों
कहना और क्या है
जाड़े की है धूप उदासी

तिनकों के ढेर मे
रेत देती है गवाही

अंजुमन में-
एक लड़की चार गजलें

संकलन में-
अमलतास-
अमलसात खिलने दो

 

रेत देती है गवाही

रेत देती है गवाही
उस नदी की
गर्मियों के पूर्व जो बहती यहाँ थी

चाँद भी
अब दूर बेहद दूर दिखता
ताप से हर रात का अब याम सिंकता
लोग कहते हैं कहानी की तरह अब
एक शीतलता सदा
रहती यहाँ थी

भोर आकुल
हुई झुलसी हुई है
काल कवलित सूखकर तुलसी हुई है
दीप की बाती निरखती शोक हरती
आस्था की बाँह जो
गहती यहाँ थी

कल करेगा
कौन बातें आज की
कौन जानेगा कथा छाँह के अवसाद की
एक बारिश बाद किसको याद होगा
यह धरा भी सूर्य को
सहती यहाँ थी

१३ फरवरी २०१२

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter