अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

11

     

EawaMjailayaaM


ho icar maQauGaT≤ 

ho icar maQauGaT tumakao vaMdna

ho nava jaIvana≠dSa-na dayak
BaavaaoM ko Antrtma gaayak
saur≠Sabd CaoD tuma kha– gayao
kr saRijat ]raoM maoM spMdna—
ho icar maQauGaT tumakao vaMdna

maurJaayaa saa hO saakI≠svar
[sa par hmaoM ekakI kr
]sa par piqak tuma calao gayao
rca vyaiqat ivaSva maoM SaUnya saGana

ho icar maQauGaT tumakao vaMdna

maRdumaya maQaursa ko p`qama ibaMdu
ho kavya≠jagat ko gahna isaMQau
tuma jaala samaoTo dUr gayao
Aip-t tumakao Sat≠AiBanaMdna—
ho icar maQauGaT tumakao vaMdna

óAimat kulaEaoYz


pRYz : 1 . 2 . 3 . 4 . 5 . 6 . 7 . 8 . 9 . 10 . 11

Ľ

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter