अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

मधुकर अष्ठाना

जन्‍म- २७ अक्‍टूबर १९३९ को मझगाँवा, रानी की सराय
आजमगढ़, उत्तर प्रदेश भारत में।

प्रकाशित कृतियाँ-
नवगीत संग्रह- आदमखोर, मुठ्ठी भर अस्थियाँ, बचे नहीं
मानस के हंस, और कितनी देर दर्द जोगिया ठहर भोजपुरी गीत संग्रह- सिकहर से भिनसहरा
गज़ल संग्रह- गुलशन से बयाबाँ।
इसके अतिरिक्त कई साझा संकलनों में गीत तथा देश की अनेक प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित। परिहार्य पत्रिका में अतिरिक्त संपादक।

पुरस्कार व सम्मान-
हिन्‍दी साहित्‍य संस्‍थान, उ.प्र. द्वारा नामित एवं सृजन पुरस्‍कारों के अतिरिक्‍त अनेक सम्‍मान एवं मानद अलंकरण।

संप्रति-
उत्तर प्रदेश सरकार के परिवार कल्याण विभाग से सेवानिवृत्त होने के बाद लखनऊ में स्वतंत्र लेखन।

 

अनुभूति में मधुकर अष्ठाना की रचनाएँ

गीतों में-
पढ़ पढ़ कथा तुम्हारी
बकरी है यह
बढ़ता गया हिसाब
राजा मरने वाला है
रावण वही

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter