अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में नंद चतुर्वेदी की रचनाएँ

गीतों में-
अभी कुछ बोल
कौन बिरछ की छाया
झूठ जब इतिहास

संकलन में
गाँव में अलाव- फटे कंबल के नीचे

  कौन बिरछ की छाया

कहत कबीर
सुनो हो साधो

वाणी एक अंगार उचारे
दूजी लिये हाथ में लोठा
एक कहे यह असली चेहरा
कहे दूसरा इसे मुखौटा
कौन बिरछ की छाया बैठे
रहा सोच
बनी माधौ

इसे बुलाया उसे बुलाया
पद, सिंहासन उन्हें बिठाया
आतम ज्ञान कबाड़ा कीन्हा
दो कौड़ी के मोल बिकाया
प्यासे मिरग रेत में भागे
क्या पिछला क्या
नीर अगाधो

छोटे ताल तलैया डूबे
बोले अगम निगम की वाणी
फिर फिर वहीं लौट कर आवें
जैसे बैल तेल की धाणी
रात अंधेरी खिड़की कूदैं
दिन में राग
अराधौ

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है