अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में निर्मला जोशी की
रचनाएं-

नए गीतों में-
तुम क्या जानो हम क्या जानें
नई करवट
बेटियाँ
रश्मि-पत्रों पर
रोशनी की याचना

गीतों में-
आ गया है मन बदलना
आलोचना को जी रही हँ
गाँव वृंदावन करूँगी
गीतों के हार
चलते चलते शाम हो गई

दर्पन है सरिता
पर्वत नदियाँ हरियाली
पानी लिख रही हूँ
बुन लिया उजियार मैने
मन अभी वैराग्य लेने
शरद प्रात का गीत
सूर्य सा मत छोड़ जाना

संकलन में—
ज्योति सत्ता का गीत   

 

बेटियाँ

दो कुल की लाज लेकर पलती हैं बेटियाँ
फिर क्यों किसी की आँख में खलती हैं बेटियाँ

गहराइयों से गहरी
हैं ईश्वरीय कृतियाँ
घर-घर की आबरू हैं
घर की ज्योतियाँ
हर द्वार देहरी की इज़्जत हैं बेटियाँ

झरनों सी झरझराती
कोयल सी कुहुकती हैं
उपवन की डालियों सी
ऋतुओं में महकती हैं
फूलों से मुस्कुराती मकरंद बेटियाँ

हिमगिरि सा ऊँचा मस्तक
विनम्र विंध्य सी
भारत सा मन विशाल है
दानी दधीचि सी
कितनी सुघड़ सलोनी भोली हैं बेटियाँ

मंदिर की घंटियों सी
मस्जिद की हैं अज़ान
गुरूग्रंथ जैसी पावन
गीता हैं और कुरान
धर्मों की हैं आवाज़ तो हैं धर्म बेटियाँ

नदियों सी दिशाओं में
बढ़ती ही जा रही
राहों में पत्थरों से
लड़ती ही जा रही
सागर को सौंप जीवन खो जाती बेटियाँ

६ अप्रैल २००९

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है