अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

Da^ SaaMit dovabaalaa

kI Anya rcanaaeM 

 

haolaI ka pva- 

haolaI imalana

pircaya


 

 

haolaI imalana         

imalana ko maolao maoM 
JaMDo vaalao pak- maoM 
dsa baarh hI imalao Anauraga maoM 
Pyaar sao ]maMga sao 
caah Baro mana sao 

baakI tao 
kaoTaoM sao kmaIja,oM imalaIM
SaorvaanaI sao kuto- imalao 
pOMTaoM sao pajaamao imalao 
bauSaTao- sao TISaTo- imalaIM 
saaiD,yaaoM sao dup+o imalao 
kalaaoM sao ica+o imalao 
CPpna klaI sao Ta^p imalao 
garIba sao maa[- baap imalao

daeM imalao baaeM imalao 
pr mana rho isalao isalao 
hr barsa imalana maolao calao 
pr fUla Pyaar ko nahIM iKlao.

 

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter