अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM dIpk pairK kI
  Anya kivataeM


bao[maanaI BaI vaao balaa hO

mana

dIpk pairK ka pircaya

AaOr 

pta


  mana    

mana AaOr saaoca kI [sa jaMga maoM
WMd hrpla rhta hO.
BaavanaaAaoM k AnauBaUit saoł
saukUna hrpla imalata hO.
saaoca kI AiBavyai@t sao 
mana ivacailat hrdma rhta hO.
mana AaOr saaoca kI [sa jaMga maoM
WMd hrpla rhta hO.
mana kI saMcaotnaał
saaoca kI p`orNaa hO.
saaoca mana pr ivajaya patI hOł
kma- saaoca pr inaBa-r rhta hO.
saaoca AaOr kma- kI [sa purkta maoM
mana hrdma harta rhta hO.
mana saaoca kI [sa jaMga maoM
WMd hrpla rhta hO.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter