अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM dIpalaI paTIla kI
rcanaaeMó

kaSa maOM rca patI
tuma kovala svaPna hao
tumhara ivaSvaasa
Sabd ivahIna Baava
p`tIxaa
p`oma kI saaqa-kta
vaao maaoD,

 




 

kaSa maOM rca patI

kaSa maOM rca patI vah Sabd
p`kT hao patI ijanasao
AilaiKt saI maorI vaodnaaeM
vyaqa- hI hO ikMtu
AaMKaoM sao Aivarla bahtI
maUlyaivahIna AEau QaaraeM.
nahIM rca paeMgaI kBaI kao[- baMQana
Avya> saI maorI BaavanaaeM.
iksaI laxya pr na phMucaogaa kBaI
calata rhogaa inarMtr WMW.
ClatI rhoMgaI jaanao kba tk
tumasao imalanao kI AaSaaeM.
jaanatI hUM raok na paeMgaI rahoM tumharI
maoro jaIvana kI AsaflataeM
ifr kBaI na doK sakMUgaI tumakao
inaYfla hI hao rhoMgao p`ya%na
BaTkta rhogaa maRgatRYNaa saa
pr yaugaaoM yaugaaoM tk maora mana.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter