अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

salaIma SaoK,
 kI Anya kivataeM

@yaa pta

tumhara duK

naIMd sao phlao

salaIma SaoK, ka pircaya

AaOr 

pta

 

  tumhara duK 

tuma
haOlao sao 
krvaTaoM kao 
roSamaI banaa dotI hao.

haM 
maOnao doKa hO 
tumhara duK
saMdUk maoM gama- kpD,aoM saa dbaa rhta hO.

tumanao K,alaI draja, maoM 
vaao jaao Aa[-naa Cupa rKa hO
]sa Aa[nao maoM 
maoro
k[- 
ija, iCpo hOM .

vaao Ct pr
p%qaraoM ko TukD,o idKa[- doto hOM 
]nasao kao[- pula banata hO 
]saka 
ek isara
lagata hO Apnaa saa
doKnaa
kBaI na kBaI 
]sa pula kI prCa[-M maoM 
tumasao maulaakat haogaI.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter