अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

जनतंत्र हमारा 
 जनतंत्र को समर्पित कविताओं का संकलन 

 
 
हुई तपेदिक आज देश को
 

हुई तपेदिक आज देश को
मगर डॉक्टर कोई नहीं
श्वासें टंगी हुई सूली पर
फिर भी जनता खोई नहीं

सबसे ज़्यादा हाथों वाला
देश मगर बेगारी है
सौ करोड़ आँखों वाली माँ
आज बनी बेचारी है

अच्छे दिन की आस में धरती
देखो अब तक सोई नहीं

सुरसा महँगाई की मुँह को
फाड़े जेबें तकती है
लेकिन चेहरों पर खाली
पैसों की लटकी तख्ती है

संसद की गलियाँ अब तक भी
साथ हमारे रोई नहीं

अभी कहाँ वो सुबहा आयी
जो बचपन को सपने दे
बूढ़े बरगद बड़े अकेले
अब तो उनको अपने दे

आशा की लकुटी ने देखो
पीर अभी तक ढोई नहीं.

- गीता पंडित
१० अगस्त २०१५


इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter