अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

मेरा भारत
 विश्वजाल पर देश-भक्ति की कविताओं का संकलन

भारत माता वंदना

हे हिममुकुट धारिणी मात भारती।
देवदुर्लभ जगतवंदित मात भारती।।

अखिल विश्व लहराए पताका आपकी।
जय हो सदा आपकी मात भारती।।

माँ आप शीतलता लिए हिमालय की।
अमृत जल-धारा गंगा यमुना की।।

चरण प्रक्षालन करता हिंद सागर है।
माँ ममता का आप अथाह सागर हैं।।

हे शस्य श्यामला जय हो मात भारती।
अखिल विश्व लहराए, पताका आपकी।।

नवनीत कुमार गुप्ता
२१ जनवरी २००८


इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है