अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

आलोक श्रीवास्तव

 

जन्म : ३० दिसंबर १९७१ को शाजापुर म. प्र. में, मगर पिछले २५ वर्षों से म. प्र. के ऐतिहासिक नगर विदिशा में स्थायी निवास।
शिक्षा : स्नातकोत्तर (हिंदी)

प्रकाशन : हंस, कथादेश, वागर्थ, इंडिया टुडे व आउटलुक सहित साहित्य की सभी शीर्ष पत्रिकाओं में ग़ज़लें, कहानियाँ व समीक्षात्मक लेख प्रकाशित। कविता के कई समवेत संग्रहों, राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय विशेषांकों में ग़ज़लें समाहित।

संपादित पुस्तकें : नई दुनिया को सलाम (लंबी ड्रामाई नज़्म) : अली सरदार जाफ़री
अफ़ेक्शन (ग़ज़ल संग्रह) : बशीर बद्र
हमकदम (काव्य संग्रह) : निदा फ़ाज़ली

अतिथि संपादक : अक्षर पर्व मासिक के विशेषांक वर्ष २००० में ग़ज़ल खंड के अतिथि संपादक।
अक्षर पर्व मासिक के विशेषांक वर्ष २००२ में कविता खंड का अतिथि संपादक।

विविध : प्रतिष्ठित पार्श्व व ग़ज़ल गायकों द्वारा गीत व ग़ज़ल गायन। फ़िल्म व टी.वी. धारावाहिकों में गीत व कथा लेखन। इंडो पाक सहित कई अ.भा. मुशायरों में शिरकत।दूरदर्शन व आकाशवाणी में भी ग़ज़लपाठ।

सम्मान : ग़ज़ल विधा के लिए वर्ष २००० का अभिनव शब्द शिल्पी सम्मान।

संप्रति : न्यूज़ चैनल आजतक में न्यूज़ प्रोड्यूसर के पद पर कार्यरत।
जालघर :
www.indiaoye.com/artists/aalokshrivastav.htm
ई-मेलः
aalokansh@yahoo.com

 

अनुभूति में आलोक श्रीवास्तव की रचनाएँ-

नई ग़ज़लें-
झाँकता है
मंज़िल पे ध्यान
मंज़िलें क्या हैं
याद आता है
सारा बदन

अंजुमन में-
अगर सफ़र में
ठीक हुआ

तुम सोच रहे हो
पिया को जो न मैं देखूँ
बूढ़ा टपरा
मैंने देखा है
ज़रा पाने की चाहत में
झिलमिलाते हुए दिन रात
ये सोचना ग़लत है
हम तो ये बात जान के
हरेक लम्हा

संकलन में-
ममतामयी-अम्मा
पिता की तस्वीर-बाबू जी

दोहों में-
सात दोहे

 

 

 

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है