अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अरुण तिवारी 'अनजान'

जन्म– ३१ अगस्त १९७३ को लखनादौन, ज़िला सिवनी (मध्य प्रदेश) में।
शिक्षा– एम. ए. (हिन्दी साहित्य)

कार्यक्षेत्र-
मध्यप्रदेश पुलिस में सेवारत तथा स्वतंत्र लेखन।

प्रकाशित कृतियाँ-
ग़ज़ल संग्रह जख्म जो तुमने दिये। इसके अतिरिक्त पत्र–पत्रिकाओं में वर्ष 1991 से लगातार रचनाएँ प्रकाशित तथा आकाशवाणी केन्द्रों से प्रसारित

ईमेल- aruntiwari.anjaan@gmail.com

 

अनुभूति में अरुण तिवारी 'अनजान'  की रचनाएँ-

नई रचनाओं में-
आँख का काजल
आग पानी
आइना
दिल अब भी तुम्हारा है
हर चाल जमाने की

अंजुमन में-
अगरचे मुहब्बत जो धोखा रही है
अब इस तरह से मुझको
आग
क्यों लोग मुहब्बत से
कुछ तो करो कमाल
कहने पे चलोगे
गम ने दिखाए ऐसे रस्ते
दिल में गुबार
नयन टेसू बहाते हैं
पहले से नहीं मिलते
बड़ी मुश्किल-सी कोई बात
ये दुनिया