अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में ओमप्रकाश खुराना 'आतिश' की रचनाएँ-

अंजुमन में—
जाने पहचाने

नगमे हमेशा
बरसता अब्र है
मुझको यहाँ
सारे जहाँ पे राज मेरा
 

  बरसता अब्र है

बरसता अब्र है या मेरे अश्कों की रवानी है
समझते हो जिसे पानी, असल में खूँ फ़शानी है

सुनाई दोस्तों ने दास्ताने-ग़म, बहुत रोए
न थी हमको ख़बर इसकी, हमारी ही कहानी है

नज़र आता नहीं शीशे में क्यों मुझको मेरा चेहरा
हुई कम मेरी बीनाई, कि उतरा इसका पानी है

सुखन दां रह गए हैं कम, तो हैं या कद्र दां कमतर
यह दौरे-शायरी कैसा, यह कैसी शेरख्व़ानी है

हमें तो मार ही डाला था 'आतिश' ज़िंदगानी ने
जिए उम्मीद में जिसकी, कज़ा-ए-नागहानी है

कठिन शब्दों के अर्थ :-
खूं फ़शानी - ख़ून बहना
सुख़न दां - शायर
शेरख्व़ानी - शेर पढ़ना
कज़ा-ए-नागहानी- आकस्मिक मृत्यु

९ जुलाई २००६

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है