अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

डॉ. योगेन्द्र दत्त शर्मा

३० अगस्त १९५० को गाज़ियाबाद में जन्म। ३० वर्षों से लेखन में सक्रिय। नवगीत और ग़ज़ल के महत्वपूर्ण हस्ताक्षर। ३ नवगीत संग्रह, १ कहानी संग्रह, १ बाल कविता संग्रह तथा १ ग़ज़ल संग्रह प्रकाशित। ग़ज़ल संग्रह 'नक़ाब का मौसम' के लिए वर्ष २००४ का 'आर्य स्मृति साहित्य सम्मान'। अनेक वर्षों तक 'आजकल(प्रकाशन विभाग) पत्रिका के लिए संपादन सहयोग। विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का नियमित प्रकाशन।

  अनुभूति में डॉ. योगेन्द्र दत्त शर्मा की रचनाएँ-

अंजुमन में-
कंचन की खंजन की
तू क्यों सूली पर चढ़ा
मेहराब थी जो सिर पे
वो मन के कितना करीब था

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है