अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में रमेश नीलकमल की रचनाएँ —

अगिया बैताल मौसम
कौन जाने
बीसवीं सदी
सन्नाटा

 

अगिया बैताल मौसम

मौसम है अगिया बैताल, शब्द-हिरण दौड़ने लगे
पूछना नहीं घर का हाल, शब्द-हिरण दौड़ने लगे

छुईमुई दुलहन को छू गई उदासी
सोने-से सुगना को हुई कुकुर-खाँसी
सतरंगी बिटिया का इंद्रधनुष टूटा
मन के अरमानों को रोज़ लगे फाँसी
और तुम बजाते हो गाल, शब्द-हिरण दौड़ने लगे

गाँव के फफोलों की है दवा शहर में
और शहर को देखो घाट में न घर में
सुबह-शाम का सूरज नापता अँधेरा
जीवन के नाम वसीयत लिखा ज़हर में
प्यादे की फर्जी-सी चाल, शब्द-हिरण दौड़ने लगे

देश-देश करते हम, देश वह कहाँ है
नदियाँ घी-दूध की, निवेश वह कहाँ है
कोई भी राह चलो दर्द के सफ़र में
जीवन में जीवन परिवेश वह कहाँ है
केवल है बातों का जाल, शब्द-हिरण दौड़ने लगे

विश्व की परिधि झूठी, गाँव-गाँव वृत्त है
कौन अग्नि ज्वाला में डाल रहा घृत है
शांति के कबूतर की विषम देह गाथा
जो समाज का द्रोही वह ही आदृत है
दूर नहीं अब है भूचाल, शब्द-हिरण दौड़ने लगे

9 जनवरी 2007

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter