अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में आलोक शर्मा की
रचनाएँ-

नई रचनाओं में-
अभिलाषा
तुम
नज़ारे यूँ चहकते हैं

सूनापन
क्षितिज के उस पार

कविताओं में-
आँसू
ढूँढता सहारा
तुमको अंतिम प्रणाम
मेरी चार पंक्तियाँ
लहर

 

ढूँढता सहारा

सिंधू गर्भ के मध्य में
नभमंडल के सहारे
वसुंधरा के तल पर
अह! मैं रह गया अकेला।

किंचित ढूँढ़ता एक सहारा
आशा के संचार लिए
आएगा क्षितिज पार से
नवजीवन का सहारा।

सोचता यह स्वर्ण पल
कब जीवन को उभारेगा
आज इस अरण्य में
ढूँढ़ता मैं एक सहारा।।

क्या मैं भी सहभागी
होऊँगा श्री हरि कृपा का
भक्ति शून्य ह्रदय में

क्या मृदुल आलोक होगा?

हे गज के रक्षक
शिला को तैराने वाले
मेरे इस भौतिक शरीर को
क्या मिलेगा एक सहारा

इस नक्षत्र के तले
सिंधु गर्जन से भयाक्रांत
सागर गर्त में विलीन होता
ढूँढ़ता मैं एक सहारा।।

२२ सितंबर २००८

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter