अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में मीनाक्षी धन्वन्तरि की
रचनाएँ-

नई रचनाओं में-
तोड़ दो सारे बंधन
निष्प्राण
बादलों की शरारत
रेतीला रूप

छंदमुक्त में-
मेरा अनुभव

गीतों में
किनारे से लौट आई
युद्ध की आग में
निराश न हो मन

संकलन में-
वसंती हवा- वासंती वैभव
धूप के पाँव- माथे पर सूरज
शुभ दीपावली- प्रकाश या अंधकार
फूले फूल कदंब- वर्षा ऋतु में

 

निष्प्राण

पृथ्वी के होठों पर पपड़ियाँ जम गईं
पेड़ों के पैरों मे बिवाइयाँ पड़ गईं
उधर सागर का भी खून उबल रहा
और नदियों का तन सुलग रहा
घाटियों का तन-बदन भी झुलस रहा
और झीलों का आँचल भी सिकुड़ रहा
धूप की आँखें लाल होती जा रहीं
हवा भी निष्प्राण होती जा रही
तब
अम्बर के माथे पर लगे सूरज के
बड़े तिलक को सबने एक साथ
निहारा -
और उसे कहा -
काली घाटियों के आँचल से
माथे को ज़रा ढक लो
बादलों की साड़ी पर
चाँद सितारे टाँक लो
और फिर
मीठी मुस्कान की बिजली गिरा कर
प्यार की, स्नेह की वर्षा कर दो
धरती को हरयाले आँचल से ढक दो
प्रकृति में, इस महामाया में करुणा भर दो !

२५ जुलाई २०११

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter