अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 

अनुभूति में सरिता नेमानी की रचनाएँ

कविताओं में-
उसकी खामोशी
कैसा आतंक
साथ
 

 

कैसा आतंक

अकेलेपन से घबराकर मैं
पहुँची जब छत पर,
देखा ये कैसा सन्नाटा
क्या सभी को चुभ गया काँटा?
आखिर क्या हुआ जो
सभी अपने घर दुबके हुए हैं
चिड़िया घोसले मे गुम हैं
क्यों बगिया सूनी-सूनी हैं?
साँय-साँय करती ये हवा
क्यों ज्वालामुखी में ये लावा?
चारों तरफ़ फैला ये कैसा आतंक
जिसको देख जाए दिल ऐसा दहक
क्यों होता है माहौल ऐसा भ्रष्ट
किसने किया है इस शांति को नष्ट
मन में उठे अनेक विचार
संतोष ने जब कर ली सीमा पार
मन मेरा करने लगा ढेरों सवाल
जवाब की खोज मे निकले मेरे ख़याल
देख, उस बालक को
जो कैसे खुशी से झूम रहा
जात-पात के भेद भुला
कैसे रंगो मे रंग घोल रहा
सच, इस तरह बार-बार मरके जीना
अच्छा है एक बार जीकर मरना
फिर जो होगा उसे देखा जाएगा
कम से कम
मन डरपोक तो ना कहलाएगा
हौसले करो बुलंद
उस चाँद तारों की तरह
दृढ़ संकल्प करो
मन में तपते सूरज की तरह
आओ गिरा दें
नफ़रत की दीवार को
जो दे रही हवा
आंतक की बहार को
फिर देख ये दुनिया
कैसी मुसकाती हुई बगिया
कोयल की वो सुरीली राग
मिटा देगी मन के सारे दाग

२४ मार्च २००८

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।

website metrics