अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

डॉ. योगेन्द्रनाथ शर्मा अरुण

जन्म- ७ जनवरी १९४१ को कनखल, जिला हरिद्वार, उत्तराखंड में।
शिक्षा- हिंदी में स्नातकोत्तर उपाधि एवं पीएच.डी.।

कार्यक्षेत्र- अध्यापन एवं लेखन। लगभग सभी प्रमुख साहित्यिक पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित। अनेक विषयों पर अनेक पुस्तकें प्रकाशित। अनेक साहित्यिक सांस्कृतिक संस्थाओं के सदस्य एवं पदाधिकारी।

संप्रति- पीलीभीत के स्नातकोत्तर कालेज से प्रधानाचार्य के पद से सेवानिवृत्त होने के बाद स्वतंत्र लेखन।

ईमेल- ynsarun@hotmail.com

 

  जीवन के अनुभव

लाल रंग उस लाल का, सबसे चटख कमाल।
रंग जा लाल के रंग में, हो जा तू भी लाल।।

मिला जो कल मैं आपसे, ऐसा हुआ कमाल।
खाली हाथों था गया, लौटा माला - माल।।

दर्शन में उलझा रहा, दर्शन से था दूर।
उलझन उसको सौंप दी,देखा जब वह नूर।।

जीवन भर चलता रहा,जाने किस-किस राह।
सही राह तब ही मिली, जागी उसकी चाह।।

ये कमाल कैसा किया, छू कर मेरा हाथ।
सब को छोड़ पकड़ लिया, मैंने तेरा हाथ।।

मालिक तेरा कमाल है, चुनता फ़क़त फकीर।
माला- माल मुझको किया, दे मीरा - सी पीर।।

भूल गया था मैं तुझे, पर तेरा अहसान।
याद दिलाई आपनी, देकर इक मुस्कान।।

फूल-फूल में रम रहा, बस तेरा ही नूर।
जिनकी आँखें बंद हैं, सब हैं तुझसे दूर।।

मैं ही बैठा दूर था, लिए अहम् की प्यास।
छुवन नेह की जब मिली,आया तेरे पास।।

बुद्धि ने भरमा दिया, ख़त्म हुए अहसास।
जब दिल की धड़कन मिली,पाया तुमको पास।।

२३ अप्रैल २०१२

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter