अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में भगीरथ बडोले की रचनाएँ-

गीतों में-
डूबती चकत्ते-सी शाम
दूर तक धुँधलका
स्तब्ध हुआ आकाश
 

 

 

दूर तक धुँधलका

गीतों में-
डूबती चकत्ते-सी शाम
दूर तक धुँधलका
स्तब्ध हुआ आकाश
 

दूर तक धुँधलका है,
अंधकार छलका है,
कैसे हर सपना सहलाएँ?
फैले सन्नाटे में,
अलग-अलग हैं खेमे,
कहाँ-कहाँ दर्द गुनगुनाएँ?

रोप रहे नागफनी
विष जीवी मिल-जुल कर,
संवेदन हो गया निरर्थक,
बहती विपरीत हवा
फेंक रही सिर्फ जहर,
विकृत हैं ह्रदय और मस्तक,
हार गए मंत्र-सिद्ध
मंडराते रहे गिद्ध,

आसमान कैसे गर्जाएँ?
कहाँ-कहाँ दर्द गुनगुनाएँ?

बढ़ते जाते तनाव
फँसकर आवर्तों में,
सभी ओर पनप गया जंगल,
अग्नि शिखर पर बैठे
जीना है शर्तों में,
अर्थहीन लगता है हर पल
चलते हैं चक्रवात,
डाल-डाल पात-पात

उलझी गति कैसे सुलझाएँ?
कहाँ-कहाँ दर्द गुनगुनाएँ?

२२ मार्च २०१०

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है