अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM AiBaYaok EaIvaastva kI rcanaaeM

caar nayaI ga,ja,laoMó
eo Kuda
tuma BaI tD,po haogao
tora ga,ma
hr rat

tumasao ibaCD,naa
maorI ija,ndga,I maoM

 

eo Kuda

e Kuda kao[- eosaa basa ek majahba hao
jaha saaro hao [nsaana [nsaainayat rba hao

hao baaolaI ek eosaI ijasao hr kao[- baaolao
basa Pyaar hI Pyaar baho vahaM baat jaba jaba hao

naa kao[- maisjad hao naa rho kao[- maindr
ek Pyaar kI pUjaa hao basa Pyaar hI rba hao

saba saaqa imala jaulakr baaMTo KuiSayaa saarI
jaao Aae kao[- gama tao saaqa mao saba haoM 

hao baat jaba jaba BaI [sa Kasa majahba kI
eo AaSnaa torI BaI baat tba tba hao

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter