अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM AiBaYaok EaIvaastva kI rcanaaeM

caar nayaI ga,ja,laoMó
eo Kuda
tuma BaI tD,po haogao
tora ga,ma
hr rat

tumasao ibaCD,naa
maorI ija,ndga,I maoM

 

 

hr rat

hr rat ko baad savaora hO
jaIvana maoM ifr BaI AMQaora hO

kBaI tuma rhto qao [sa idla maoM
yahaM Aaja tao gama ka Dora hO

kao[- AaOr @yaUM hmasao jalata hO
yao irSta tora maora hO

KuiSayaaoM kao ijasanao laUTa hO
yao va@t hI vahI lauTora hO

idla ZUMZta hO jaanao kba sao
gauma khIM po Aba yao basaora hO

BaID, mao BaI dma GauTta hO
tnha[- nao mauJakao Gaora hO

[sa doSa kao AaSnaa mat baaTao
@yaa tora hO @yaa maora

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter