अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM AaSautaoYa kumaar isaMh kI rcanaaeMó

ija,ndga,I
p%ta
naIMd 
irSto 
kiva
phaD, 
baulabaulao
 

kiva

jaao hO
maoro BaItr ek kiva
vaao hO
kiva isar sao paMva tk
naaKUnaaoM kao kutrta hO
AaOr kuC ilaKta hO
KuiSayaaoM ko plaaoM maoM BaI ga,ma kao
nahIM rKta pro
AaOr ga,ma maoM ZUMZ laota hO
KuiSayaaoM ko pla.
ivacaaraoM kao Zalata hO
SabdaoM maoM
tnha[- ko kMQaaoM pr rK kr
isar saaota hO
]sa saMgaItmaya Baaor kI Aasa maoM
ijasaka [Mtja,ar hO ]sakao.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter