अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM AaSautaoYa kumaar isaMh kI rcanaaeMó

ija,ndga,I
p%ta
naIMd 
irSto 
kiva 
phaD, 
baulabaulao
 

irSto

ifr sao ]pjaa
ek AMkur irSto ka
ifr sao samaMoTI maOMnao ApnaI AastInaoM
ik saIcaUM p`oma ko rsa sao.
ifr sao samaJaayaa
mana kI rotIlaI ja,maIna pr
KDo saUKo dr#,t nao
"mat saIMcaao irStaoM kao
yao baZtoM hOM
hro haoto hOM
AaOr zUMz hao jaato hOM
maorI trh"

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter