अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM 
Aca-naa hirt kI rcanaaeM

kivataAaoM maoM

Amar p`oma

ija,ndga,I

Qau`va tara

 

 


 

 

 

ija,ndga,I

ijandgaI
jaba BaI tuJao saaocatI hU
mana maoM savaala patI hU
hr ek kI tU ApnaI hO
ifr BaI Alaga lagatI hO
saba tuJaI kao saaocato hOM
phcaana nahIM pato hOM
ksaUr tora hI samaJato hOM
tU jaao hr ek kI ApnaI prCayaI hO
tora Apnaa vajaUd kha hO
hr ek ko kmaao-M ko rMga
tuJa maoM Jalakto hOM
kBaI KuSaI ka pla idKatI hO
tao kBaI AasauAaoM kao bahatI hO
AaOr maOM BaI KamaaoSaI sao
tora yah badlata $p doKtI hU
AaOr saaocatI hU ijandgaI
tumhara Apnaa @yaa $p rMga hO
@yaa tuma BaI Kud kao ZMUZ,tI hao
Apnaa vajaUd hma saba maoM KaojatI hao

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter