अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 


रिपुदमन पचौरी

जन्म : 09-दिसंबर-1975,  दिल्ली, भारत।
शिक्षा : संगणक विज्ञान और अभियांत्रिकी में स्नातक उपाधि।
कृतियाँ : बारह वर्ष की आयु में, अप्रकाशित, '13 पन्ने' नामक काव्य संग्रह को अपनी चित्र कला से सुसज्जित किया। तब से ही कविता के प्रति रुझान हुआ। अधिकतर कवितायें, व्यवसाय के कारण मिले कांतवास के दौरान ही लिखी गईं। साहित्य पढ़ना और चर्चा करना पसंद है।
संप्रति : तकनीकी सलाहकार के रूप में संयुक्त राज्य अमरीका में कार्यरत हैं

 

अनुभूति में रिपुदमन पचौरी की रचनाएँ

अब मुझको चलना होगा
अर्थ तुम्हारे ही अनुसार होंगे...
क्या निशा कुछ ना कहोगी?
काव्य की परिभाषा से अपरिचित्त रहा
कौन-सा मैं गीत गाऊँ
बाँधो ना मुझको


 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।