अंजुमन उपहार । कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम
गौरवग्रंथ
दोहे रचनाएँ भेजें नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन
हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 


 AnauBaUit maoM rama saMjaIvana vamaa- kI rcanaaeM

maaM ka Pyaar

yaadoM 

maja,dUr 

jaohad

nayaI rcanaaeM 

tao baura maana gae

nanhIM prI

 

 

  majadUr

naOnaa mao badra hO¸ 
naOnaa po badra hO
badra maoM panaI hO.
panaI hI panaI hO
panaI maoM hI tao raonao vaalaao kI khanaI hO.

ek kuta-¸ ek QaaotI
QaaotI CaoTI sao BaI CaoTI
Ainayaimat¸ baZ,I daD,I
jaoba maoM idna Bar kI idhaD,I
caohro pr prt kalaI
caohro pr majadUr kI gaalaI

haqa sar pr¸ 
sar GauTnaaoM pr¸ 
GauTnao CatI sao icapko
dd- saara¸ 
bahut saara¸ 
zND baZtI¸ 
tna maoM Aa%maa saubako.
 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमन। उपहार। कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे रचनाएँ भेजें
नई हवा
पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।