अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में आशीष श्रीवास्तव की रचनाएँ-

अंजुमन में--
आज बरसों हुए
गुमनाम मुसाफिर ग़ज़लों का
जैसे कभी अपना माना था
दिल को बचाना मुश्किल था

दरिया ज़रा धीरे चल

 

आज बरसों हुए

आज बरसों हुए उस मुलाकात को जिस में हम तुम बिछड़ कर जुदा हो गए
टूट कर हर तमन्ना बिखर सी गयी ख्वाब देखे थे जो क्या से क्या हो गए

तू मेरी आरजू थी ऐ रूह-ए-ग़ज़ल पहली पहली ही ख्वाहिश था मैं भी तेरी
आज तुम हो सितमगर हमारे लिए हम तुम्हारे लिए बेवफा हो गए

इससे पहले भी आये थे तूफान बहुत उठा करती थी सागर में लहरे कई
कश्तियाँ क्यों अचानक बहकने लगी आज बेबस से क्यों नाखुदा हो गए

मुन्तजिर बनके दर दर भटकते रहे नाम सी आँखों में तस्वीर तेरी लिए
राज़ तुमसे छुपाये थे जो उम्र भर चंद अश्को में वो सब बयां हो गए

कतरा कतरा बिखरने लगी जिंदगी और बचपन बिछड़ कर कहानी बना
दुनिया वालो ने हमको जुदा जब किया तब ये जाना कि हम तुम जवां हो गए


२९ अगस्त २०११

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter