अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में आशीष श्रीवास्तव की रचनाएँ-

अंजुमन में--
आज बरसों हुए
गुमनाम मुसाफिर ग़ज़लों का
जैसे कभी अपना माना था
दिल को बचाना मुश्किल था

दरिया ज़रा धीरे चल

 

दरिया जरा धीरे चल

दरिया जरा धीरे चल सागर भला क्या देगा
फितरत है समंदर की खारा ही बना देगा

कोई शै इस दुनिया में बस दूर से अच्छी है
नज़दीक अगर पहुँचे सूरज भी जला देगा

नादाँ है अभी बुलबुल कर ले सौ वफ़ा कर ले
सैयाद तो जालिम है देगा तो दगा देगा

जीवन से मिलोगे जब फिर प्यार तलाशोगे
तब मील का हर पत्थर मेरा ही पता देगा

इंसान ही हूँ आखिर मुमकिन है खता की हो
अब लौट के भी आजा कब तक ये सजा देगा

वो दिल तक आने का रस्ता तो बना लेंगे
गुस्ताख ज़माना है दीवार उठा देगा

इस शहरे तमन्ना को बर्बाद किया जिसने
आबाद रहे वो भी आशीष दुआ देगा


२९ अगस्त २०११

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter