अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहे पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में आशीष श्रीवास्तव की रचनाएँ-

अंजुमन में--
आज बरसों हुए
गुमनाम मुसाफिर ग़ज़लों का
जैसे कभी अपना माना था
दिल को बचाना मुश्किल था

दरिया ज़रा धीरे चल

 

गुमनाम मुसाफिर ग़ज़लों का

गुमनाम मुसाफिर ग़ज़लों का फिर एक कहानी कहता हूँ
कुछ शेरो में कुछ मिसरों में सारी जिंदगानी कहता हूँ

लहरों से उलझती कश्ती को मंजिल का ठिकाना याद नहीं
हरसत है कहीं रूक जाने की फितरत को रवानी कहता हूँ

संगदिल को हमारी बेफिक्री रास आये तो कैसे रास आये
दुनिया मुझे पागल कहती है मैं उसको दिवानी कहता हूँ 

समझाइश वाइज़ की अक्सर मुझको बेमानी लगती है
वो आग इश्क को कहते है मैं इश्क को पानी कहता हूँ
 
आशीष हमारी महफ़िल से डर है न कही वो उठ जाये
नयी बात वो सुनने बैठे है मैं बात पुरानी कहता हूँ   

२९ अगस्त २०११

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter