अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्तिकुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में डॉ. मधु प्रधान की रचनाएँ-

नये गीतों में-
आओ बैठें नदी किनारे
तुम क्या जानो
पीपल की छाँह में

प्यासी हिरनी
सुमन जो मन में बसाए

गीतों में-
प्रीत की पाँखुरी
मेरी है यह भूल अगर
रूठकर मत दूर जाना
सुलग रही फूलों की घाटी

अंजुमन में-
जहाँ तक नज़र
जेठ की दोपहर
नया शहर है
लबों पर मुस्कान

  जहाँ तक नजर

जहाँ तक नजर जाती है कतारें ही कतारें हैं
बसी यह कौन सी बस्ती दीवारें ही दीवारें है

पल रहे गर्द में बच्चे तरसते रोटी कपड़े को
मगर कुछ के लिये हरसूँ बहारें ही बहारें हैं

घटती जा रहीं है कीमतें बस आदमी की ही
होती मूल्य-वृद्धि पर अनेकों सेमिनारें हैं

ये दरिया दूर से कितना हसीं लगता है ए यारों
मगर, घड़ियाल, भवरें है किनारों पर कगारें हैं

फिसल जाते हैं अक्सर रेत के मानिन्द मुट्ठी से
जो लम्हें बरसों से हमने सजाये हैं संवारे हैं

डर है कहीं खो जाये न ये देश गाँवों का
उग रहे ईंट के जंगल मीनारों पर मीनारें हैं

२२ नवंबर २०१०

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter