अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

बृजनाथ श्रीवास्तव

जन्म- १५ अप्रैल १९५३ को ग्राम- भैनगाँव,जनपद- हरदोई (उ.प्र.) में।
शिक्षा- एम.ए. (भूगोल)

प्रकाशित कृतियाँ-
नवगीत संग्रह- दस्तखत पलाश के, रथ इधर मोड़िये
सहित्येतर स्नातकोत्तर कक्षाओं हेतु- व्यावहारिक भूगोल, उत्तरी अमेरिका का भूगोल, जलवायु विज्ञान। इसके अतिरिक्त देश के अनेक प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में गीत, नवगीत, दोहे प्रकाशित

सम्प्रति-
भारतीय रिजर्व बैंक के प्रबन्धक पद से सेवानिवृत्त होने के बाद स्नातकोत्तर महाविद्यालय मे भूगोल का प्राध्यापन, पठन, पाठन, लेखन एवं पर्यटन

ईमेल- sribnath@gmail.com

 

अनुभूति में बृजनाथ श्रीवास्तव की रचनाएँ-

नये गीतों में-
अलकापुरी की नींद टूटे
पहले जैसा
प्रेमचंद जी
ये शहर तो

सुनो राजन

गीतों में-
इसी शहर मे खोया
गंध बाँटते डोलो
बुलबुल के घर
सगुनपंछी
होंठ होंठ मुस्काएँगे


 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter