अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में कमलेश कुमार दीवान की रचनाएं

गीतों में-
अब अंधकार भी जाने कितने
आज़ादी की याद मे एक गीत
नहीं मौसम
दरबारों में खास हुए हैं
राम राम
लोकतंत्र का गान
लोकतंत्र की चिंता में
सब मिल सोचे रे भैया
 


 

  अब अंधकार भी जाने कितने

पथ धूल धूसरित और दिशाएँ
हुई नयन से ओझल।
अब अंधकार भी
जाने कितने स्याह घने होंगे,

हम ढूँढ रहे हैं क्यों
अनंत के छोर
दुख के प्रहार अब
द्रवित नहीं करते हैँ।
नित नई वेदनाओं
के प्रवाह में लोग
सूखे अंतस से
क्रमिक नहीं झरते हैं।
दिल के सुराख भी
जाने कितनें और बड़े होंगें।

टुकड़ों टुकड़ों मे बटे हुए
कैसे एक देश बनाएँगें
सूखीं बगियाँ, मरते माली
कैसे एक फूल उगाएँगे
धन लुटा, अस्मिता नग्न हुई
नोंचे जाते पथ पर सुहाग
बसते संसार भी
जाने कितने उजड़ गए होगें

८ जून २००९

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है