अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM Anauja kumaar kI rcanaaeM

AMjaumana maoMó

AMQaoro maoM
maorI najaraoM sao
hr Saama

 

hr Saama

hr Saama ]nako Aanao ka [ntjaar hMU krta
baokrarI hO iktnaI ]nakao pOgaama hMU krta

band idla ko hr kaonao kao mahka idyaa maOMnao
[ntjaar ]nako Aanao ka Kaolao ikvaaD, hMU krta

idla kI hrbaat kao ]nakao saunaa idyaa maOMnao
rah doKa tao ]nako donao ka javaaba hMU krta

[Sk maoM ]nakao gar pkI na hao mauJapo
[mthaM lao laoM vaao [saka [ntjaar hMU krta

hma tao Kud kao imaTa cauko hOM Kaitr ]nako
majaI- vaao ApnaI saunaa doM eolaana hMU krta.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter