अंजुमन उपहार । कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम
गौरवग्रंथ
दोहे रचनाएँ भेजें नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन
हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 


AnauBaUit maoM Anauja kumaar kI rcanaaeM

AMjaumana maoM—

AMQaoro maoM
maorI najaraoM sao
hr Saama

 

maorI naja,raoM sao

maorI naja,raoM sao na jaba ]nakI maulaakat hu[-
maora idna DUba gayaa maoro ilae rat hu[-

]nasao ibaCD,o tao tmannaa ka badna TUT gayaa
Aba tao idla sao ]zo AaMsaU sao barsaat hu[-

]nako Aanao kI Kbar gama- bahut hO laoikna
rasta doKto AaMKaoM kao bahut rat hu[-

dd- kI ]nako dvaa mauJasao na haogaI laoikna
kaoiSaSaoM BaI na k$M yao BaI kao[- baat hu[-

[Sk hO dIna maora [Sk hO maja,hba maora
[Sk hO naama–e–Kuda [Sk maorI jaat hu[-

tja,rbaa kuC BaI na qaa haqa Anauja @yaa krto
[Sk ko Kola maoM hr baar mauJao maat hu[-.

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमन। उपहार। कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे रचनाएँ भेजें
नई हवा
पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।