अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में राजेश जोशी अन्य कविताएँ

हास्य व्यंग्य में-
न्यू जोइनिंग
फार्मूला बटरिंग
शिव जी के यहाँ चोरी
साथी रेगिस्तान का
 

 

साथी रेगिस्तान का

जीवन से मत हार मुसाफिर
जीवन खेल अनोखा है
जीवन जितना सच्चा है
जीना उतना धोखा है
दूर सुलगती रेत की राहें
जिन्दगी लेती दर्द की कराहें
उस पार जिजीविशा खोले है बाहें
इस पार हृदय में ठंडी आहें
कैसे समय यहाँ पर काटें
अपना गम हम किससे बाँटें
हर तरफ बस रेत के टीले
सारे दिल गमों से गीले
हर हृदय में खाली स्थान
बसता जहाँ इक रेगिस्तान
वहीं कहीं है उड़ती रेत
मुठ्ठी से खिसकती रेत
रेत ही रेत के सफर में
पथिक को कितनी प्यास है
मरीचिका भरे रेगिस्तान में
जिसे पानी की तलाश है
ह्दय में सपनों का महल बनाया
उस पर आँधियों ने कहर ये ढाया
रेत के नीचे उसे दबाया
आज मुसाफिर वहीं खड़ा है
जिसके नीचे महल पड़ा है
अरे मुसाफिर कितने अन्जान
अपने मन के महल को पहचान
यहीं गलत हैं हम पथिक सारे
चलते नही जो मन के द्वारे
अपने को पहचान न पाते
मन के भीतर झाँक न पाते
पहले मन के रेगिस्तान में
फूल कोई एक खिलाना होगा
एक अजनबी को इस रेगिस्तान में
साथी बनाना होगा
जो लेकर प्रेम का अथाह सागर
इस ह्दय को डुबा देगा
अपनत्व और प्रेम की हरियाली से
इस रेगिस्तान को मिटा देगा

१६ जनवरी २००३

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter