अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में राजेश जोशी अन्य कविताएँ

हास्य व्यंग्य में-
न्यू जोइनिंग
फार्मूला बटरिंग
शिव जी के यहाँ चोरी
साथी रेगिस्तान का
 

 

शिव जी के यहाँ चोरी

एक बार सारे चोर चोरी करने से सुस्ता गये
चोरी के प्रोफेशन से उकता गये
सारी चोरियाँ रोकीं
और किसी भगवान के पास जाने की सोची
नारद जी सारे चोरों को आते देख घबरा गये
सारे दरवाजे बंद कर एक इश्तिहार लटका गये
बुरी नज़र से मेरे मकान की तरफ देखना भी पाप है
कुछ भी गड़बड़ होने पर चींटी बनने का श्राप है
सबने कैलाश पर्वत की राह बनायी
और शिवजी को फरियाद सुनायी
सब बोले,
"हम अपने पिछले जन्म के पापों को
इस तरह क्यों चुकायें
और भी तो धन्धे हैं चोर ही क्यों बन जायें
आपको ऐसा क्या रास आया
कि हमें चोर ही बनाया?"
शिवजी बोले,
"ये तो कर्म का धागा है
हम सबको अलग अलग ही पहनाते हैं
जहाँ तक चोरी का सवाल है
कुछ कमाते हैं कुछ बचाते हैं
और कुछ गँवाते हैं।"
चोरों को बात समझ आई
सबने अपने घरों की राह बनायी
थोड़ी देर बाद पार्वती जी आई
और शिवजी की, की खिंचाई,
"रास्ते में नारद कह रहा था
चोर घूम रहे हैं क्या घर की ठीक रखवाली है?"
अन्दर जाते ही चिल्लायी,
"हम लुट गये बर्बाद हो गये सारी तिजोरी खाली है।"

१६ जनवरी २००३

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter