अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM SalaBa EaIvaastva
kI rcanaaeM

na[- kivataeM
AalaisayaaoM ka doSa
KuSaI
pZ,oilaKo naasamaJa

kivataAaoM maoM

dOdIPyamaana
maaoxa
QaUla dao kivataeM
va@t kI baat

saMklana maoM
jyaaoit pva-ek AaOr idvaalaI

 

 

va@t kI baat

puranaI yaadoM mat CoD,ao
baat sao baat inaklatI hO

]sa idla kI raK sao mat Kolaao
ijasa idla maoM Aaga jalatI hO

icaMgaarI kao hvaa na dao
hvaa maaOsama ko saaqa badlatI hO

va@t kI GaD,I kImatI hO
va@t sao Aagao calatI hO

AaOraoM kI baatoM rhnao dao
jaba Kud kI baat inaklatI hO

puranaI yaadoM mat CoD,ao
baat sao baat inaklatI hO

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter